Bihar Diwas 2022: क्यों मनाया जाता है बिहार दिवस? | Why Bihar diwas is celebrated in Hindi?

Bihar Diwas 2022: बिहार दिवस क्यों मनाई जाती है? जानिये वजह, इतिहास और महत्व | Why Bihar diwas is celebrated in Hindi? Know reason history and significanse in Hindi 


हर साल 22 मार्च के दिन को बिहार दिवस (Bihar दिवस 2022) के रूप में मनाया जाता है. यह बिहार राज्य के गठन को चिह्नित करता है. इस अवसर पर बिहार सरकार Bihar Diwas पर सार्वजनिक अवकाश घोषित करती है, जो राज्य और केंद्र सरकार के अधिकार क्षेत्र में आने वाली सभी कंपनियों, कार्यालयों और स्कूलों पर लागू होता है.


22 मार्च को हर साल बिहार दिवस मनाया जाता है, लेकिन क्या आप जानते हैं इस दिन का क्या मतलब है. क्यों ये बिहार दिवस मनाया जाता है. बिहार दिवस मनाने का कारण इतिहास महत्व क्या है. बिहार दिवस क्यों मनाई जाती है?  ( Bihar Diwas kyo Manaya Jata hai ) बिहार दिवस कब और कैसे मनाया जाता है? ( Bihar Diwas kab Manaya Jata hai ), क्या है बिहार दिवस मनाने की वजह इतिहास और महत्व? कम ही लोग जानते होंगे आखिर इस राज्य का नाम बिहार कैसे पड़ा? बिहार राज्य कब अस्तित्व में आया, यह कब से मनाया जाने लगा और भी बहुत रोचक और महत्वपूर्ण बातें जो आपको जो आपको बिहार दिवस के बारे में जानना चाहिए. तो चलिए बिहार दिवस से जुड़े सारे सवालों के जवाब हम आपको दे देते हैं. ( Read all about Bihar Diwas and it's history and significanse in Hindi)

Bihar Diwas kyo Manaya Jata hai? | Why Bihar Diwas is celebrated in Hindi?


बिहार दिवस क्यों मनाया जाता है? | Why Bihar Diwas is celebrated in Hindi?


बिहार दिवस को 22 मार्च के दिन मनाने का प्रमुख कारण है कि इसी दिन बिहार राज्य की स्थापना हुई थी. असल में अंग्रेजों ने सन 1912 में 22 मार्च के दिन बिहार को बंगाल प्रसीडेंसी से अलग कर नए राज्य के रूप में मान्यता दी थी. इस दिन ही बिहार राज्य की स्थापना हुई थी. इसके बाद से ही बिहार दिवस को पारंपरिक रूप से मनाया जाने लगा. खास बात ये है कि बिहार दिवस सिर्फ बिहार में ही नहीं बल्कि पुरे देश और विदेशों में भी जैसे की अमेरिका, इंग्लैंड, स्कॉटलैंड, आस्ट्रेलिया, कनाडा, बहरीन, कतर, यूएई, सऊदी अरब तथा कैरेबियाई देशों में भी मनाया जाता है. (Bihar Diwas kyu manaya jata hai?)


हर साल बिहार सरकार आज के दिन सार्वजनिक अवकाश घोषित करती है, जो राज्य और केंद्र सरकार के अधिकार क्षेत्र में आने वाली सभी कंपनियों, कार्यालयों और स्कूलों पर लागू होता है.


कैसे अस्तित्व में आया बिहार दिवस? | How Bihar State came into existence? Know in Hindi


दरअसल 22 अक्टूबर, 1764 को बक्सर का युद्ध हेक्टर मुनरो के नेतृत्व में ईस्ट इंडिया कंपनी की सेना और बंगाल के नवाब, अवध के नवाब, और मुगल राजा शाह आलम द्वितीय की संयुक्त सेना के बीच में लड़ा गया था. लड़ाई बक्सर में लड़ी गई थी और ईस्ट इंडिया कंपनी को इसमें बड़ी जीत हासिल हुई. (Bihar Diwas kaise astitva me aaya?)


बंगाल के मुगलों और नवाबों की हार के कारण बंगाल के मुगलों और नवाबों ने प्रदेशों पर नियंत्रण खो दिया और दीवानी के अनुसार ईस्ट इंडिया कंपनी को राजस्व के संग्रह और प्रबंधन का अधिकार मिल गया. उस समय बंगाल प्रेसीडेंसी में पश्चिम बंगाल, बिहार, झारखंड, उड़ीसा और बांग्लादेश का वर्तमान इलाका शामिल था.


वर्ष 1911 में, किंग जॉर्ज पंचम का दिल्ली में राज्याभिषेक किया गया और ब्रिटिश भारत की राजधानी दिल्ली को बना दिया गया. 21 मार्च, 1912 को, थॉमस गिब्सन कारमाइकल ने बंगाल के नए गवर्नर का पद संभाला और घोषणा की कि अगले दिन, 22 मार्च से बंगाल प्रेसीडेंसी को बंगाल, उड़ीसा, बिहार और असम के चार सुभाषों में विभाजित किया जाएगा. तब से प्रत्येक वर्ष 22 मार्च को बिहार दिवस के रूप में मनाया जाने लगा. (Bihar Diwas history in Hindi)


जानिये बिहार का इतिहास हिंदी में | History of Bihar in Hindi


बिहार राज्य गंगा नदी के किनारे बसा हुआ है. यह भारत के उत्तर पूर्वी भाग में स्थित है. बिहार पुरातन समय में मगध के नाम से जानी जाती था, जिसकी राजधानी पाटलिपुत्र (पटना) हुआ करती थी जो की आज भी पटना ही है. कहा जाता है की यहां की भूमि उपजाऊ होने के कारण आदिकाल के मानवों ने सर्वप्रथम यहीं पर खेती की थी. 


बिहार की मिट्टी ने गौतम बुद्ध, आचार्य चाणक्य जिनकी नीति पर आज भी कई राजनेता चलते हैं, चक्रवर्ती सम्राट अशोक, सम्राट चंद्रगुप्त मौर्य, आर्यभट्ट, ऋषि वात्स्यायन, गुरु गोबिंद सिंह और डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद जो की भारत के प्रथम राष्ट्रपति थे, जैसे महापुरुषों और वीर सपूतों को दुनियां को दिया है. माता सीता का जन्म भी यही का माना जाता है. विश्व का पहला विश्वविद्यालय भी बिहार में ही स्थित जो की नालंदा विश्वविद्यालय के नाम से जाना जाता है. इन्हीं बात से यह पता चलता है की बिहार का इतिहास कितना गौरवशाली और अभूतपूर्व रहा है. (Bihar Diwas significanse in Hindi)


बिहार इतिहास का वह पहला राज्य है, जिसने गणतंत्र पद्धति की शुरुआत की थी, इस पद्धति में जनता द्वारा किसी भी देश या राज्य का प्रतिनिधि चुना जाता है. दुनियां का सबसे प्राचीन नालंदा विश्वविद्यालय बिहार में ही स्थित है, जहां विश्व के अलग-अलग प्रांत से छात्र शिक्षा प्राप्त करने आते थे. प्रथम सिपाही आंदोलन, बक्सर का युद्ध और भारत छोड़ो आंदोलन में बिहार राज्य ने अहम भूमिका निभाई है.


Bihar Diwas kyo Manaya Jata hai? | Why Bihar Diwas is celebrated in Hindi?


बिहार राज्य से जुडी कुछ रोचक तथा अनसुनी खास बातें | Unknown facts about Bihar state in Hindi


  • बिहार शब्द (संस्कृत और पाली शब्द) विहार (मठ या Monastery) से बना. बिहार बौद्ध संस्कृति का जन्म स्थान है, जिस वजह से इस राज्य का नाम पहले विहार और उससे बिहार बना.
  • हिंदु पुराणों के अनुसार माता सीता का जन्म भी बिहार में हुआ. इसी राज्य में भगवान राम और माता सीता का मिलन भी हुआ.
  • बिहार से ही बुद्ध और जैन धर्म की उत्पत्ति हुई. इसी राज्य में भगवान बुद्ध और महावीर का जन्म हुआ.  
  • सिखों के 10वें गुरु (गुरु गोबिंद सिंह) का जन्म भी बिहार में हुआ. हरमिंदर तख्त (पटना साहिब) पटना में है.
  • बिहार के वैशाली जिले को दुनिया का पहला गणतंत्र माना जाता है. इसी जगह पर भगवान महावीर का जन्म हुआ था.
  • भारत के प्रसिद्ध सम्राट चंद्रगुप्त मौर्य, विक्रमादित्य और अशोका भी बिहार से ही हैं.
  • बिहार में ही दुनिया के सबसे पुराना विश्वविद्यालय (नालंदा यूनिवर्सिटी) है. 12वीं शताब्दी के बाद इस खूबसूरत स्थान के साथ तोड़-फोड़ कर नुकसान पहुंचाया गया. इस स्थान के खंडहर हो जाने के बावजूद साल 2016 में इस स्थान को यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज (UNESCO World Heritage) में शामिल किया गया.
  • बिहार को पहले मगध नाम से जाना जाता था. बिहार की राजधानी पटना का नाम पहले पाटलिपुत्र था.
  • भारत के पहले राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद बिहार से ही थे.
  • बिहार में ही एशिया का सबसे बड़ा पशु मेला (सोनपुर मेला) लगता है. बिहार के सोनपुर इलाके में यह मेला हर साल नवंबर-दिसंबर (कार्तिक पूर्णिमा) में लगता है.
  • इस राज्य में भारत के प्राचीन मंदिरों में से एक माने जाने वाला मुंडेश्वरी मंदिर मौजूद है. ये मंदिर भगवान शिव और माता पार्वती का है.
  • विश्व प्रसिद्ध गणितज्ञ आर्यभट भी बिहार से थे.
  • यौन संबंधों पर लिखी गई सबसे मशहूर किताब कामसूत्र को लिखने वाले लेखक वात्स्यायन भी बिहार से थे.


विहार हो गया बिहार | Formation of Bihar from Vihar


बिहार राज्य के नाम के बारे में बहुत कम ही लोग जानते होंगे की आखिर इस राज्य का नाम बिहार कैसे पड़ा. बता दें बिहार नाम बौद्ध विहारों के विहार शब्द से हुआ है, जिसे विहार के स्थान पर इसके विकृत रूप बिहार से संबोधित किया जाता है. यह क्षेत्र गंगा नदी तथा उसकी सहायक नदियों के उपजाऊ मैदानों में बसा है.


बिहार दिवस से जुड़े सवाल और उनके जवाब | Frequently asked questions about Bihar Diwas in Hindi


बिहार दिवस क्यों मनाते है? | Why Bihar Diwas is celebrated in Hindi?

22 मार्च 1912 को बिहार राज्य का गठन हुआ था. इसी के उपलक्ष्य में हर साल 22 मार्च को बिहार दिवस मनाते है?


बिहार दिवस कब मनाया जाता है? | When Bihar Diwas is celebrated in Hindi?

बिहार दिवस हर साल 22 मार्च को मनाया जाता है. इसी दिन ब्रिटिश सरकार ने 1912 में बंगाल प्रेसिडेंसी से अलग बिहार प्रदेश का गठन किया था.


बिहार राज्य की स्थापना/ गठन कब हुई थी? | When was the state of Bihar formed in Hindi?

बिहार राज्य का गठन 22 मार्च 1912 में कब हुई थी. इसलिए इस दिन हर साल 22 मार्च को बिहार दिवस मनाया जाता है. 


बिहार दिवस मनाना कब से चालू हुआ? | When did the celebration of Bihar Diwas start?

22 मार्च को बिहार दिवस के रूप में मनाने का मुख्य कारण यह है कि इस दिन बिहार राज्य की स्थापना हुई थी. वर्ष 1912 में इसी दिन अंग्रेजो ने बिहार को बंगाल प्रसीडेंसी से अलग कर नए राज्य के रूप में मान्यता दी थी.


बिहार दिवस 2022 की थीम क्या है? | What is theme for Bihar Diwas 2022 in Hindi?

बिहार दिवस 2022 की थीम 'जल, जीवन, हरियाली' है. यह राज्य में समृद्धि का प्रतीक है.


बिहार राज्य के स्थापना को कितने वर्ष हो गए? | How many years have passed since the establishment of the state of Bihar?

(22 मार्च) सन 1912 में बिहार राज्य की स्थापना हुई थी. इस लिहाज से बिहार राज्य के गठन को को पूरे 110 साल हो गए हैं.

 

PM Modi on Bihar Diwas 2022



यह भी पढ़े


Shree Dharmajivandasji Swami: जानिये श्री धर्मजीवन स्वामी के बारे में, कौन थे? जीवन परिचय, जीवन उद्देश्य 

International Women's Day: अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस कब क्यों और कैसे मनाया जाता है?

Operation Ganga: क्या है मिशन ऑपरेशन गंगा ? क्यों रखा गया मिशन का नाम ऑपरेशन गंगा ? जानिए वजह

Valentine’s Day: जानें 14 फरवरी को ही क्यों मनाया जाता है वैलेंटाइन डे, जाने इस दिन से जुड़ी खास Kahani और Itihaas

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने