Motion of Thanks meaning in hindi: धन्यवाद प्रस्ताव क्या होता है जो प्रधानमंत्री राष्ट्रपति के अभिभाषण के बाद बोलते है? | What is Motion of Thanks given by Prime Minister in Parliament in Hindi

What is Motion of Thanks in Hindi: जानिए धन्यवाद प्रस्ताव क्या होता है? What is Motion of Thanks given in parliament in Hindi?


बजट सत्र आरम्भ होने पर इसके पहले दिन राष्ट्रपति, संसद की दोनों सदनों (लोक सभा और राज्य सभा) को संयुक्त रूप से संबोधित करते हैं. उसके बाद बहस प्रारम्भ किया जाता है.

धन्यवाद प्रस्ताव (Motion of Thanks) में प्रधानमंत्री राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव देते हुए जो भी बहस हुए है उनका जवाब देते है. धन्यवाद प्रस्ताव पहले लोकसभा में दिया जाता है फिर उसके पश्चात राज्य सभा में.

What Is Motion Of Thanks In Hindi
What is Motion of Thanks in hindi


धन्यवाद प्रस्ताव क्या है? | What Is Motion Of Thanks In Hindi


बजट सत्र आरम्भ होने पर इसके पहले दिन राष्ट्रपति, संसद की दोनों सदनों (लोक सभा और राज्य सभा) को संयुक्त रूप से संबोधित करते हैं. राष्ट्रपति के अभिभाषण को सरकार द्वारा तैयार किया जाता है, जिसमे सरकार की उपलब्धियों का विवरण होता है.

जब तक राष्ट्रपति संसद के दोनों सदनों को एक साथ संबोधित नहीं कर लेते, तब तक कोई अन्य कार्य नहीं किया जा सकता है. यह अभिभाषण संसद के दोनों सदनों को एक साथ दिया जाता है.

राष्ट्रपति के अभिभाषण के बाद दोनों सदन में सत्तापक्ष के सांसदों द्वारा धन्यवाद प्रस्ताव प्रस्तुत किया जाता है. इस दौरान, राजनीतिक दल धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा करते हैं तथा संशोधन करने के लिए सुझाव भी देते हैं. बजट और सरकारी नीति तथा स्थिति के विशिष्ट पहलुओं पर चर्चाये होती है जिससे प्रशासनिक पुनर्विलोकन के महत्वपूर्ण अवसर प्राप्त होता है.

बजट सत्र समाप्त होने के बाद अंत में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव यानि मोशन ऑफ़ थैंक्स (Motion of Thanks) का प्रचलन है, जिसमें प्रधानमंत्री राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव देते हुए जो भी बहस हुए है उनका जवाब देते है. धन्यवाद प्रस्ताव पहले लोकसभा में दिया जाता है फिर उसके पश्चात राज्य सभा में.

'धन्यवाद प्रस्ताव' में संशोधन | Amendment In Motion Of Thanks in Hindi


सत्र आरम्भ होने के पर सर्वप्रथम राष्ट्रपति सदन को संबोधित करते है. राष्ट्रपति का यह अभिभाषण सरकार द्वारा तैयार किया जाता है, जिसमे सरकार की उपलब्धियों का विवरण होता है. उसके बाद राष्ट्रपति के अभिभाषण पर 'धन्यवाद प्रस्ताव' में संशोधन पेश किया जा सकता है. संशोधन में अभिभाषण में उल्लेखित मामलों के साथ-साथ उन विषयों को भी संदर्भित किया जा सकता है, जिनका संशोधन अभिभाषण में उल्लेख नहीं किया गया होता है. यह पूणतः प्रस्ताव पेश करने वाले सदस्य पर निर्भर करता है की वह अन्य किस विषय को सभा के समक्ष पेश करता है. 'धन्यवाद प्रस्ताव' में संशोधन को अध्यक्ष अपने विवेकानुसार उचित तरीके से पेश कर सकता है.

राष्ट्रपति के अभिभाषण का विषय | Content of the President of Address in Hindi


राष्ट्रपति का अभिभाषण मौजूदा सरकार द्वारा तैयार किया जाता है. यह सरकार की नीतियों का विवरण होता है. 

अभिभाषण में पिछले वर्ष के दौरान सरकार की विभिन्न गतिविधियों और उपलब्धियों की समीक्षा शामिल होती है और उन नीतियों, परियोजनाओं और कार्यक्रमों को निर्धारित करता है जिन्हें सरकार महत्वपूर्ण राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय मुद्दों के संबंध में आगे बढ़ाना चाहती है. यह अभिभाषण व्यापक शब्दों में उन कार्य की मदों को भी इंगित करता है जिन्हें उस वर्ष आयोजित होने वाले सत्रों के दौरान लाने का प्रस्ताव है.

राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव, लोक महत्व के किसी अन्य मामले पर स्थगन प्रस्ताव, अविश्वास प्रस्ताव, लोकसभा के अध्यक्ष अथवा उपाध्यक्ष के या राज़्यसभा के उपसभापति के निर्वाचन के लिए या हटाने के लिए प्रस्ताव, विशेषाधिकार के प्रस्ताव और सभी संकल्प, मूल प्रस्ताव होते हैं.

धन्यवाद प्रस्ताव द्वारा अभिभाषण पर चर्चा | Discussion on the Address by President in Hindi


  • राष्ट्रपति के अभिभाषण के पश्चात ससद के दोनों सदनों में 'धन्यवाद प्रस्ताव' नामक प्रस्ताव पर चर्चा की जाती है.
  • यह संसद सदस्यों के लिए उपलब्ध है कि वे सरकार और प्रशासन की खामियों और विफलताओं की जांच और आलोचना करने के लिए चर्चा और बहस करें.
  • आम तौर पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा के लिए तीन दिन आवंटित किए जाते हैं. 
  • यदि किसी भी संशोधन को आगे रखा जाता है और स्वीकार किया जाता है तो धन्यवाद प्रस्ताव संशोधित रूप में स्वीकार किया जाता है.
  • संशोधन अभिभाषण में निहित मामलों के साथ-साथ उन मामलों को भी संदर्भित कर सकते हैं, जिनका सदस्य की राय में अभिभाषण उल्लेख करने में विफल रहा है.
  • चर्चा के अंत में प्रस्ताव को मतदान के लिए रखा जाता है. 

'धन्यवाद प्रस्ताव' किस प्रकार पारित होता है? | How is the 'Motion of Thanks' passed in Hindi?


  • संसद के दोनों सदनों ( लोक सभा और राज्य सभा) में अभिभाषण में उल्लेखित मामलों के साथ-साथ उन मामलों पर भी चर्चा की जाती है, जिनका सदस्य की राय में अभिभाषण उल्लेख नहीं रहा है.
  • चर्चा के अंत में, मोशन ऑफ़ थैंक्स के रूप में प्रधानमंत्री के उत्तर के पश्चात , संशोधनों को निबटाया जाता है और प्रस्ताव को मतदान के लिए रखा जाता है.
  • संसद सदस्यों द्वारा 'धन्यवाद प्रस्ताव' पर मतदान किया जाता है. यह प्रस्ताव, दोनों सदनों में पारित होना आवश्यक होता है.
  • 'धन्यवाद प्रस्ताव' के पारित न होने को सरकार की हार समझा जाता है, और यह सरकार के पतन का कारण बन सकता है. यही कारण है, कि 'धन्यवाद प्रस्ताव' को 'अविश्वास प्रस्ताव' के समान माना जाता है.

अभिभाषण पर चर्चा की सीमाएं | Limitations on Discussion on the Address in Hindi


  • 'धन्यवाद प्रस्ताव' के तहत, सदस्य उन विषयों पर चर्चा नहीं कर सकते है जिनके लिए केंद्र सरकार प्रत्यक्ष रूप से जिम्मेदार नहीं होती है. 
  • इसके अलावा राष्ट्रपति के अभिभाषण पर बहस के दौरान राष्ट्रपति का उल्लेख नहीं किये जा सकता क्योंकि अभिभाषण की विषयवस्तु के लिए केंद्र सरकार तैयार करती है, न कि राष्ट्रपति.

धन्यवाद प्रस्ताव का महत्व | Significance of Motion of Thanks in Hindi


धन्यवाद प्रस्ताव का सदन में पारित होना बहुत आवश्यक होता है. आगे ऐसा नहीं हो सका तो यह सरकार की हार मानी जाती है. इस प्रक्रिया में लोकसभा भी सरकार में विश्वास की कमी व्यक्त कर सकती है. 'धन्यवाद प्रस्ताव' को 'अविश्वास प्रस्ताव' के समान माना जाता है. अन्य तरीके: 
  • धन विधेयक की अस्वीकृति.
  • निंदा प्रस्ताव या स्थगन प्रस्ताव पारित करना.
  • एक अहम मुद्दे पर सरकार की हार.
  • कटौती प्रस्ताव पारित करना.

Src: DI


यह भी पढ़े





एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने