Thane-Diva Connecting Railway Line Inauguration By PM Modi in Hindi: PM मोदी ने Thane और Diva को जोड़ने वाली नई पांचवीं और छठी रेलवे लाइन को किया राष्ट्र को समर्पित, जानिये इसके फायदे, महत्व और खासियत [Importance, Benefits in Hindi]

PM Narendra Modi inaugurated new Thane-Diva connecting 5th and 6th rail lines on Friday in Hindi: PM मोदी ने किया Thane - Diva के बीच बनी नई रेल लाइन का उद्घाटन, जानिये इसके फायदे, महत्व और खासियत 


Mumbai Suburban Railway: प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी (PM नरेंद्र मोदी) ने 18 फऱवरी 2022 को ठाणे और दिवा को जोड़ने वाली दो अतिरिक्त रेलवे लाइनों को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से राष्ट्र को समर्पित किया, और हरी झंडी दिखाकर रेलगाड़ियों को रवाना किया. ठाणे और दिवा को जोड़ने वाली दो अतिरिक्त रेल लाइनों के निर्माण पर लगभग 620 करोड़ रुपये की लागत आई है.

ठाणे और दिवा को जोड़ने वाली इन दो अतिरिक्त रेल लाइन लगभग 620 करोड़ रुपये की लागत से बनाई गई हैं, और इसमें 1.4 किलोमीटर लंबा रेल फ्लाईओवर, तीन प्रमुख पुल, 21 छोटे पुल शामिल हैं.

आइये जानते है ठाणे और दिवा को जोड़ने वाली इन दो अतिरिक्त रेल लाइन के बारे में. इस रेल लाइन की खासियत और इसके फायदे के बारे में. साथ ही यह भी समझने का प्रयास करेंगे भविष्य में इन रेल लाइन का क्या महत्त्व है. कैसे यह रेल लाइन मुंबई लोकल ट्रैन को नयी दिशा देगा. यही आप ठाणे और दिवा को जोड़ने वाली इन दो अतिरिक्त रेल लाइन के बारे में सम्पूर्ण जानकारी जानना चाहते है तो इस आर्टिकल को अंत तक अवश्य पढ़े.

PM Narendra Modi inaugurated new Thane-Diva connecting 5th and 6th lines on Friday in Hindi


ठाणे - दिवा के बीच बनी नई रेल लाइन के बारे सम्पूर्ण जानकारी |Complete detailed information about the new railway line between Thane - Diva in Hindi


शुक्रवार 18 फरवरी 2022 को प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी (PM Narendra Modi) ने ठाणे और दिवा को जोड़ने वाली दो अतिरिक्त रेलवे लाइनों को राष्‍ट्र को समर्पित किया. और मुंबई उपनगरीय रेलवे की दो उपनगरीय रेलगाड़ियों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया. प्रधानमंत्री का यह कार्यक्रम वीडियो कान्फ्रेंस के जरिए हुआ. इस मौके पर पीएम ने अपने संबोधन में कहा कि इन रेल लाइनों की शुरुआत से हर मुंबईकर को आवागमन में सहूलियत म‍िलेगी.

ठाणे और दिवा को जोड़ने वाली इन दो अतिरिक्त रेल लाइन लगभग 620 करोड़ रुपये की लागत से बनाई गई हैं, और इसमें 1.4 किलोमीटर लंबा रेल फ्लाईओवर, तीन प्रमुख पुल, 21 छोटे पुल शामिल हैं. माना जा रहा है कि इन लाइनों के निर्माण से मुंबई में उपनगरीय रेलगाड़ियों के यातायात में सहूलियत होगी. साथ ही लंबी दूरी की रेलगाड़ियों के यातायात में अब तक आ रही रुकावटों को काफी हद तक दूर किया जा सकेगा. यही नहीं इन लाइनों की मदद से शहर में 36 नई उपनगरीय ट्रेनें भी चलाई जा सकेंगी.


ठाणे - दिवा के बीच बनी नई रेल लाइन का खासियत और महत्व | The specialty and importance of the new railway line between Thane - Diva in Hindi


  • प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार, 18 फरवरी 2022 को ठाणे और दिवा को जोड़ने वाली रेलवे लाइनों को राष्ट्र को समर्पित किया. 
  • 620 करोड़ रुपये से अधिक की लागत से निर्मित, अतिरिक्त रेलवे लाइनें उपनगरीय ट्रेन के यातायात के साथ लंबी दूरी की ट्रेन के यातायात के हस्तक्षेप को काफी हद तक दूर कर देंगी.
  • इन रेलवे लाइनों के माध्यम से भविष्य में 36 नई उपनगरीय ट्रेनें भी चलाई जा सकेंगी.
  • ठाणे और दिवा को जोड़ने वाली दो अतिरिक्त रेल लाइन लगभग 620 करोड़ रुपये की लागत से बनाई गई हैं, और इसमें 1.4 किलोमीटर लंबा रेल फ्लाईओवर, तीन प्रमुख पुल, 21 छोटे पुल शामिल हैं.
  • ठाणे और दिवा को जोड़ने वाली इन दो अतिरिक्त रेल लाइन के उद्घाटन के साथ ही सेंट्रल रेलवे लाइन पर 36 नई लोकल चलने जा रही हैं.
  • दूसरे राज्यों से मुंबई आने-जाने वाली ट्रेनों को अब लोकल ट्रेनों की पासिंग का इंतजार नही करना पड़ेगा. साथ ही इन अतिरिक्त रेलवे लाइनें से लेकर मेल एक्सप्रेस का कंजेशन होगा दूर.
  • कल्याण से कुर्ला सेक्शन में मेल/एक्‍सप्रेस गाड़ियां अब बिना किसी अवरोध के चलाई जा सकेंगी.

ठाणे और दिवा के लिए अतिरिक्त रेल लाइन की आवश्यकता क्या है? | What is the need of additional rail line for Thane and Diva in Hindi?


मुंबई उपनगरीय रूट में कल्याण मध्य रेलवे का मुख्य जंक्शन है. देश के उत्तरी और दक्षिणी भाग से आने वाला रेल ट्रैफिक कल्याण में मर्ज होकर CSMT (छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस) की ओर चला जाता है. ऐसे में कल्याण और सीएसटीएम के बीच 4 रेल मार्गों में से दो पटरियों का इस्तेमाल धीमी लोकल ट्रेनों के लिए और दो ट्रैक फास्ट लोकल, मेल एक्सप्रेस और मालगाड़ियों के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं. उपनगरीय और लंबी दूरी की ट्रेनों को अलग करने के लिए दो अतिरिक्त लाइनों की योजना बनाई गई थी. जो अब बनकर तैयार हो गयी है और प्रधानमंत्री मोदी ने इसका उद्घाटन किया. 

ठाणे और दिवा को जोड़ने वाली दो अतिरिक्त रेलवे लाइनें लगभग 620 करोड़ रुपये की लागत से बनाई गई हैं, और इसमें 1.4 किमी लंबा रेल फ्लाईओवर, 3 प्रमुख पुल, 21 छोटे पुल हैं. ये लाइनें मुंबई में उपनगरीय ट्रेन के यातायात के साथ लंबी दूरी की ट्रेन के यातायात के हस्तक्षेप को काफी हद तक काम हो जाएगी. साथ ही सिग्नल की समस्या काफी काम हो जाएगी. इन लाइनों से शहर में 36 नई उपनगरीय ट्रेनें भी चलाई जा सकेंगी. दूसरे राज्यों से मुंबई आने-जाने वाली ट्रेनों को अब लोकल ट्रेनों की पासिंग का इंतजार नही करना पड़ेगा. साथ ही इन अतिरिक्त रेलवे लाइनें से मेल एक्सप्रेस का कंजेशन होगा दूर. कल्याण से कुर्ला सेक्शन में मेल/एक्‍सप्रेस गाड़ियां अब बिना किसी अवरोध के चलाई जा सकेंगी.

इंफ्रास्ट्रक्चर निर्माण पर विशेष ध्यान | Special focus on infrastructure construction in Hindi?


पीएम मोदी ने कहा की भारत की तरक्‍की और खुशहाली में मुंबई महानगर ने अपना अहम योगदान दिया है. अब कोशिश है कि आत्मनिर्भर भारत के निर्माण में भी इन महानगरो की क्षमता कई गुना तक बढ़े. इसीको ध्‍यान में रखते हुए मुंबई में २१वीं सदीके इंफ्रास्ट्रक्चर निर्माण पर हम विशेष फोकस कर रहे हैं.

आगे उन्होंने कहा की वर्तमान में अहमदाबाद मुंबई हाई स्पीड रेल समय की जरूरत है. मुंबई उपनगरीय रेलवे नेटवर्क का आधुनिकीकरण किया जा रहा है. इसकी क्षमता करीब 400 किलोमीटर तक बढ़ाई जा रही है. हमारी सरकार 19 स्टेशनों के आधुनिकीकरण और सीबीडीसी प्रणाली को लागू करने की योजना बना रही है. 

ठाणे और दिवा को जोड़ने वाली दो अतिरिक्त रेल लाइनें लगभग 620 करोड़ रुपए की लागत से बनाई गई हैं और इसमें 1.4 किलोमीटर लंबा रेल फ्लाईओवर, तीन बड़े पुल, 21 छोटे पुल शामिल हैं. इन लाइनों पर 36 नई लोकल ट्रेनें चलने जा रही हैं. इनमें अधिकतर वातानुकूलित (AC) ट्रेनें शामिल हैं.

आज हज़ारो किलोमीटर रेल लाइनों का electrification भी किया गया है. 4 हज़ार किलोमीटर नई लाइन बनाने या उसके दोहरीकरण का काम किया गया है. आज गांधीनगर और भोपाल के आधुनिक रेलवे स्टेशन रेलवे की पहचान बन रहे हैं. आज 6 हज़ार से ज्यादा रेलवे स्टेशन Wi-Fi सुविधा से जुड़ चुके हैं. वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेनें देश की रेल को गति और आधुनिक सुविधा दे रही है. आने वाले वर्षों में 400 नई वंदे भारत ट्रेनें, देशवासियों को सेवा देना शुरू करेंगी. 

प्रधानमंत्री मोदी क्या बड़ी बाते कही इस 'ठाणे और दिवा को जोड़ने वाली इन दो अतिरिक्त रेल लाइन' के शुभारम्भ के दौरान | What did PM Modi say during the inaugural of Thane and Diva connecting rail lines ?


पीएम मोदी ने कहा 'ये नई रेल लाइन, मुंबई वासियों के जीवन में एक बड़ा बदलाव लाएंगी, उनकी इज ऑफ़ लिविंग बढ़ाएगी. ये नई रेल लाइन, मुंबई की कभी ना थमने वाली जिंदगी को और अधिक रफ्तार देगी'.

उन्होंने कहा 'इन दोनों लाइंस के शुरू होने से मुंबई के लोगों को सीधे-सीधे चार फायदे होंगे. पहला - अब लोकल और एक्सप्रेस ट्रेनों के लिए अलग-अलग लाइनें हो जाएंगी. दूसरा - दूसरे राज्यों से मुंबई आने-जाने वाली ट्रेनों को अब लोकल ट्रेनों की पासिंग का इंतजार नही करना पड़ेगा. तीसरा - कल्याण से कुर्ला सेक्शन में मेल/एक्‍सप्रेस गाड़ियां अब बिना किसी अवरोध के चलाई जा सकेंगी. और चौथा- हर रविवार को होने वाले ब्लॉक के कारण कलावा और मुंब्रा के साथियों की परेशानी भी अब दूर हो गई है'.

पीएम मोदी ने आगे कहा 'आज से सेंट्रल रेलवे लाइन पर 36 नई लोकल चलने जा रही हैं. इनमें से भी अधिकतर AC ट्रेनें हैं. ये लोकल की सुविधा को विस्तार देने, लोकल को आधुनिक बनाने के केंद्र सरकार के कमिटमेंट का हिस्सा है. बीते 7 साल में मुंबई में मेट्रो का भी विस्तार किया गया है. मुंबई से सटे सबअर्बन सेंटर्स में मेट्रो नेटवर्क को तेज़ी से फैलाया जा रहा है'.

इस प्रोजेक्ट में 34 स्थान तो ऐसे थे, जहां नई रेल लाइन को पुरानी रेल लाइन से जोड़ा जाना था. अनेक चुनौतियां के बावजूद हमारे श्रमिकों ने, हमारे इंजीनीर्यस ने, इस प्रोजेक्ट को पूरा किया. दर्जनों पुल बनाए, फ्लाईओवर बनाए, सुरंग तैयार कीं. राष्ट्रनिर्माण के लिए ऐसे कमिटमेंट को मैं हृदय से नमन भी करता हूं, अभिनंदन भी करता हूं.

उन्होंने आगे कहा, मुंबई महानगर ने आज़ाद भारत की प्रगति में अपना अहम योगदान दिया है. अब प्रयास है कि आत्मनिर्भर भारत के निर्माण में भी मुंबई का सामर्थ्य कई गुणा बढ़े. इसलिए मुंबई में 21वीं सदी के इंफ्रास्ट्रक्चर निर्माण पर हमारा विशेष फोकस है. रेलवे कनेक्टिविटी की ही बात करें तो यहां हज़ारों करोड़ रुपए का निवेश किया जा रहा है. मुंबई sub-urban रेल प्रणाली को आधुनिक और श्रेष्ठ टेक्नॉलॉजी से लैस किया जा रहा है. हमारा प्रयास है कि अभी जो मुंबई sub-urban की क्षमता है उसमें करीब-करीब 400 किलोमीटर की अतिरिक्त वृद्धि की जाए. CBTC जैसी आधुनिक सिग्नल व्यवस्था के साथ-साथ 19 स्टेशनों के आधुनिकीकरण की भी योजना है.

बीते 2 सालों में रेलवे ने फ्रेट ट्रांसपोर्टेशन में नए रिकॉर्ड बनाए हैं. इसके साथ ही 9 हज़ार किलोमीटर रेल लाइनों का electrification भी किया गया है. करीब साढ़े 4 हज़ार किलोमीटर नई लाइन बनाने या उसके दोहरीकरण का काम भी हुआ है. कोरोना काल में ही हमने किसान रेल के माध्यम से देश के किसानों को देशभर के बाज़ारों से जोड़ा है.

आज गांधीनगर और भोपाल के आधुनिक रेलवे स्टेशन रेलवे की पहचान बन रहे हैं. आज 6 हज़ार से ज्यादा रेलवे स्टेशन Wi-Fi सुविधा से जुड़ चुके हैं. वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेनें देश की रेल को गति और आधुनिक सुविधा दे रही है. आने वाले वर्षों में 400 नई वंदे भारत ट्रेनें, देशवासियों को सेवा देना शुरू करेंगी.

आज वंदे भारत ट्रेनें और स्वदेशी विस्टाडोम कोच हमारे देश के फैक्ट्रियों में बन रहे हैं. आज हम अपने signaling system को स्वदेशी समाधान से आधुनिक बनाने पर भी निरंतर काम कर रहे हैं. 

ठाणे और दिवा को जोड़ने वाली इन दो अतिरिक्त रेल लाइन के बारे कुछ सवाल और उनके जवाब | Some important top questions and answers about rail lines connecting Thane and Diva in Hindi



पीएम मोदी ने किस तारीख को ठाणे और दिवा को जोड़ने वाली रेलवे लाइन राष्ट्र को समर्पित किया? 
18 फरवरी 2022 | 18th February 2022
पीएम मोदी ने शुक्रवार, 18 फरवरी 2022 के दिन ठाणे और दिवा को जोड़ने वाली रेलवे लाइन राष्ट्र को समर्पित किया.

ठाणे - दिवा के बीच बनी नई रेल लाइन का लागत खर्च कितना है?
620 करोड़ रुपए
ठाणे और दिवा को जोड़ने वाली दो अतिरिक्त रेल लाइनें लगभग 620 करोड़ रुपए की लागत से बनाई गई हैं और इसमें 1.4 किलोमीटर लंबा रेल फ्लाईओवर, तीन बड़े पुल, 21 छोटे पुल शामिल हैं.

यह भी पढ़े





एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने