National Unity Day: राष्ट्रीय एकता दिवस कब और क्यों मनाया जाता हैं? राष्ट्रीय एकता दिवस मनाने के पीछे क्या कारण है?

Rashtriya Ekta Diwas 2021: आखिर क्यों मनाया जाता है राष्ट्रीय एकता दिवस? कब से आरम्भ हुआ? किसने शुरुआत की राष्ट्रीय एकता दिवस? राष्ट्रीय एकता दिवस का महत्व?

प्रत्येक वर्ष राष्ट्रीय एकता दिवस 31 अक्टूबर को मनाया जाता है. राष्ट्रीय एकता दिवस का शुभारम्भ वर्ष 2014 में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा की गई. राष्ट्रीय एकता दिवस मनाने का मुख्य उद्देश्य सरदार वल्लभ भाई पटेल को याद करना, उन्हें श्रद्धांजलि देना और उनके अथक परिश्रम को धन्यवाद् देना है. सरदार वल्लभभाई पटेल को लौह पुरुष भी कहा जाता है, जिन्होंने अपने बुद्धि और अथक प्रयास से 562 रियासतों का विलय कर भारत को एक राष्ट्र बनाया था. इसलिए सरदार वल्लभभाई पटेल के जयंती पर अर्थात 31 अक्टूबर को भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय एकता दिवस की घोषणा की गई.

सरदार वल्लभभाई पटेल भारत राष्ट्र के प्रथम गृह मंत्री थे. सरदार पटेल का जन्म 31 अक्टूबर 1875 को गुजरात के नडियाद में हुआ था. सरदार पटेल जी का निधन 15 दिसंबर, 1950 को महाराष्ट्र के मुंबई में हुआ था. वर्ष 1991 में सरदार पटेल को मरणोपरान्त 'भारत रत्न' से भी सम्मानित किया गया. सरदार वल्लभभाई पटेल की 143 वीं वर्षगांठ पर उनके सम्मान में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा गुजरात के केवडिया में स्टैच्यू ऑफ़ यूनिटी (Statue of Unity) का उद्घाटन किया गया.
राष्ट्रीय एकता दिवस क्यों मनाया जाता हैं? | Why is National Unity Day celebrated?
राष्ट्रीय एकता दिवस क्यों मनाया जाता हैं?
Why is National Unity Day celebrated?

राष्ट्रीय एकता दिवस | National Unity Day in Hindi

प्रत्येक वर्ष राष्ट्रीय एकता दिवस 31 अक्टूबर को मनाया जाता है. सरदार वल्लभभाई पटेल के जयंती पर अर्थात 31 अक्टूबर को भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय एकता दिवस की घोषणा की गई. राष्ट्रीय एकता दिवस मनाने का मुख्या उद्देश्य सरदार वल्लभ भाई पटेल को याद करना, उन्हें श्रद्धांजलि देना और उनके अथक परिश्रम को धन्यवाद् देना है. सरदार वल्लभभाई पटेल को लौह पुरुष भी कहा जाता है, जिन्होंने अपने बुद्धि और अथक प्रयास से 565 रियासतों का विलय कर भारत को एक राष्ट्र बनाया था. सरदार वल्लभ भाई पटेल द्वारा देश को हमेशा एकजुट करने के लिए अनेकों प्रयास किये गए, इन्ही कार्य को याद करते हुए उन्हें श्रधांजलि अर्पित करने के लिए राष्ट्रीय एकता दिवस मनाने का फैसला लिया गया है. इस दिवस की शुरुआत भारत के केंद्र सरकार द्वारा वर्ष 2014 में लिया गया था.

राष्ट्रीय एकता दिवस क्यों मनाया जाता हैं? | Why is National Unity Day celebrated?

सरदार वल्लभभाई पटेल भारत राष्ट्र के प्रथम उप प्रधानमंत्री तथा गृह मंत्री थे. सरदार वल्लभभाई पटेल को भारत के लौह पुरुष (Iron Man of India) के रूप में भी जाना जाता है. सरदार पटेल का जन्म 31 अक्टूबर 1875 को गुजरात के नडियाद में हुआ था. सरदार वल्लभभाई पेशे से वकालत थे. अतः उन्होंने राष्ट्र भक्ति से ओतप्रोत होकर वकालत छोड़कर महात्मा गांधी के नेतृत्व में भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन से जुड़ गए. इसके अलावा उन्होंने गुजरात के बारदोली तथा खेड़ा में हुए किसान आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी. बारदोली सत्याग्रह के दौरान उन्हें सरदार की उपाधि प्रदान मिली थी. वर्ष 1947-49 के दौरान उन्होंने भारत के 500 से अधिक रियासतों के एकीकरण में अहम् भूमिका निभाई. सरदार पटेल जी का निधन 15 दिसंबर, 1950 को महाराष्ट्र के मुंबई में हुआ था.

वर्ष 1991 में सरदार पटेल को मरणोपरान्त 'भारत रत्न' से भी सम्मानित किया गया था. सरदार वल्लभभाई पटेल की 143 वीं वर्षगांठ पर उनके सम्मान में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा गुजरात के केवडिया में स्टैच्यू ऑफ़ यूनिटी (Statue of Unity) का उद्घाटन किया गया. सरदार वल्लभभाई पटेल के द्वारा राष्ट्र को एकीकरण करने के कार्य को सराहने और उन्हें सम्मान देने के लिए राष्ट्रीय एकता दिवस (National Unity Day) मनाया जाता है, और उनके जन्मदिन के दिन ही राष्ट्रीय एकता दिवस मनाया जाता है.

राष्ट्रीय एकता दिवस का उद्देश्य क्या है? | What is the purpose of National Unity Day?

भारत एक विविधताओं से युक्त देश है. यहाँ सभी धर्मो के लोग निवास करते है. भारत 1600 से अधिक भाषाएं बोली जाती हैं, sath ही विभिन्न धर्म एवं संस्कृतियों, परम्पराओं, पोशाकों, रहन-सहन, खान-पान और सामाजिक रीति-रिवाजों के साथ हमारा देश विश्व का सबसे विविधतापूर्ण राष्ट्र है. ऐसे में राष्ट्र के भविष्य के लिए सभी लोगो को एक साथ रहना आवश्यक हो जाता है. किसी भी आतंरिक या बाहरी शक्तियों का सामना हम तभी कर सकते है जब सब एक साथ आगे आएंगे. देश का विकास, शांति, समृद्धि तभी सम्भव है, जब देश में लोगों के बीच एकता होगी. इसलिए हम राष्ट्रीय एकता दिवस मानते है. राष्ट्रीय एकता दिवस हमें एकता के सन्दर्भ में बताता है. जिस प्रकार सरदार वल्लभभाई पटेल ने राष्ट्र के जोड़ने का कार्य किया, उनके इस अमूल्य योगदान को आत्मसात करने और उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए हम राष्ट्रीय एकता दिवस मानते है.  

यह भी पढ़े



एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने