क्या है आयुष्मान भारत डिजिटल अभियान? जानिए क्या है Aayushyaman Bharat Digital Mission के लाभ?

आयुष्मान भारत डिजिटल अभियान : जानिए क्या है आयुष्मान भारत डिजिटल अभियान ( Aayushyaman Bharat Digital Mission ) ? जानिए आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के फायदे और हेल्थ ID Card बनाने का तरीका 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 27 सितम्बर 2021 को आयुष्मान भारत डिजिटल अभियान का उद्घाटन किया गया. इस आयुष्मान भारत डिजिटल अभियान का एलान प्रधानमंत्री ने 15 अगस्त 2020 को लाल किले से किया था. वर्ष 2017 में भारत सरकार द्वारा आयुष्यमान भारत की संकल्पना तैयार की थी जो मख्यतः दो घटको में विभाजित है स्वास्थ्य एवं कल्याण केंद्र ( HWCs ) तथा प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना ( PM-JAY ) शामिल है. यह अभियान अपने शुरुआती चरण के रूप में पहले केवल छह केंद्र शासित प्रदेशों में लागू थी, परन्तु अब यह सम्पूर्ण देश में डिजिटल रूप में लागू किया गया है.

आयुष्मान भारत डिजिटल अभियान के कारण न केवल भारत के स्वास्थ्य क्षेत्र में वृद्धि होगी बल्कि डिजिटल इंडिया के अभियान को भी बढ़ावा मिलेगा. हेल्थ कार्ड बनाने के बाद लोगो की कई प्रकार की सुविधाएं प्राप्त होगी. इस हेल्थ कार्ड के वजह से अनुमानित 50 करोड़ गरीब और मध्यम वर्ग के लोगो को 5 लाख प्रति वर्ष का कवरेज प्राप्त होगा. उन्हें हर जगह अपनी बिमारी का रिपोर्ट कार्ड लेके जाने की जरुरत नहीं होगी. 
आयुष्मान भारत डिजिटल अभियान, Aayushyaman Bharat Digital Mission, Health ID Card
आयुष्मान भारत डिजिटल अभियान 
Aayushyaman Bharat Digital Mission

क्या है आयुष्मान भारत डिजिटल अभियान? | What is Aayushyaman Bharat Digital Mission in Hindi?

आयुष्मान भारत हेल्थ मिशन एक राष्ट्रीय स्वास्थ्य अभियान है, जिसका शुभारम्भ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 27 सितम्बर 2021 को किया गया. योजना को सुभारम्भ करते दौरान प्रधानमंत्री ने कहा बीते सालों में देश की स्वास्थ्य के क्षेत्र में काफी सुधार आया है, और निरंतर स्वास्थ्य सुविधाओं को मजबूत करने का अभियान चल रहा है. भारत ने स्वास्थ्य के क्षेत्र में एक और अहम कदम आगे बढ़ाया है, एक नए चरण में प्रवेश कर रहा है. प्रधानमंत्री ने इस योजना को लॉन्च करते हुए कहा कि स्वास्थ्य के क्षेत्र में यह एक क्रांतिकारी कदम है. उन्होंने कहा कि देश के गरीब और मध्यम वर्गीय लोगों के इलाज में इस योजना ने अहम भूमिका निभाई है, अब डिजिटल फॉर्म में आने से इसका विस्तार हो रहा है. 

आयुष्मान भारत डिजिटल अभियान एक ऑनलाइन अभियान या मिशन है जो सभी तरह के मेडिकल या स्वास्थ से जुडी सेवाओं को डिजिटली उपलब्ध कराएगा. इस अभियान के तहत देश के प्रत्येक नागरिक का हेल्थ कार्ड बनाया जाएगा, और उन्हें यूनिक आईडी कार्ड दिया जाएगा. आईडी कार्ड में उनके स्वास्थ्य तथा बिमारी से जुड़ी सभी जानकारी उपलब्ध होगी. इसका सबसे बड़ा फायदा ये होगा कि अगर आप देश के किसी भी कोने में इलाज के लिए जाएंगे तो आपको कोई जांच रिपोर्ट या पर्ची नहीं ले जानी होगी. आपकी सारी जानकारी हेल्थ कार्ड में मौजूद होगी, डॉक्टर सिर्फ आपकी आईडी से ये जान सकेंगे कि आपको पहले कौन सी बीमारी रही है और आपका कहां क्या इलाज हुआ है और आगे क्या इलाज की जरूरत है. 

आयुष्मान भारत डिजिटल अभियान/ हेल्थ आईडी कार्ड काम कैसे करेगा? | How Ayushman Bharat Digital Mission / Health ID Card will work in Hindi?

आयुष्मान भारत डिजिटल अभियान के तहत एक पोर्टल ( वेबसाइट ) बनाई जाएगी जिसमे इन सभी की जानकारी उपलब्ध होगी. यहाँ से लोग अपना यूनिक हेल्थ आईडी कार्ड बना सकते है. इस पोर्टल पर जाके मरीज तथा डॉक्टर अपने तथा अन्य मेडिकल सुविधा आदि का रिकॉर्ड्स चेक कर सकते हैं. इसमें सामान्य जन, डॉक्टर्स, नर्स समेत अन्य स्वास्थ्यकर्मियों का रजिस्ट्रेशन होगा, अस्पताल-क्लीनिक-मेडिकल स्टोर्स का भी रजिस्ट्रेशन होगा. 

आयुष्मान भारत डिजिटल अभियान के तहत देश के हर नागरिक का अपना हेल्थ कार्ड व आईडी होगा. इस हेल्थ कार्ड के वजह से अनुमानित 50 करोड़ गरीब और मध्यम वर्ग के लोगो को 5 लाख प्रति वर्ष का कवरेज प्राप्त होगा. उन्हें हर जगह अपनी बिमारी का रिपोर्ट कार्ड लेके जाने की जरुरत नहीं होगी. यह हेल्थ कार्ड बहुत मायने में कारगर साबित होने वाली है. इस कार्ड में व्यक्ति के बीमारी सम्बंधित जानकारी एक ही जगह से ही मिल जाएगी. मरीज को हर जगह रिपोर्ट, पेपर आदि लेकर घूमने की जरुरत नहीं है. इस कार्ड में अन्य जानकारिया भी शामिल होंगे जैसे की डॉक्टर्स, अस्पताल से जुडी जानकारी. इसमें डॉक्टर्स, नर्स समेत अन्य स्वास्थ्यकर्मियों का रजिस्ट्रेशन होगा, अस्पताल-क्लीनिक-मेडिकल स्टोर्स आदि का भी रजिस्ट्रेशन होगा. 

कैसे बनवाएं डिजिटल हेल्थ आईडी कार्ड/ How to get Digital Health ID Card in Hindi

पब्लिक हॉस्पिटल, कम्युनिटी हेल्थ सेंटर, हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर या वैसा हेल्थकेयर प्रोवाइडर जो नेशनल हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर रजिस्ट्री से जुड़ा हो, किसी व्यक्ति की हेल्थ आईडी बना सकता है. https://healthid.ndhm.gov.in/register पर खुद के रिकॉर्ड्स रजिस्टर करा कर भी आप अपनी हेल्थ आईडी बना सकते हैं.

जिस किसी व्यक्ति की आईडी कार्ड बनानी है, उसका आधार नंबर और उसका या उसके परिवार के किसी सदस्य का मोबाइल नंबर लिया जाएगा. आधार और मोबाइल नंबर की मदद से यूनिक हेल्थ कार्ड बनाया जाएगा. इसके लिए आधार नंबर और मोबाइल नंबर पोर्टल पर एंट्री करने पर जेनेरेट होगी, जिसे एंटर करने पर हेल्थ आईडी कार्ड को डाउनलोड किया जा सकेगा.

यूनिक हेल्थ आईडी कार्ड के फायदा/ Benefits of Unique Health ID Card in Hindi

यूनिक हेल्थ कार्ड बन जाने के बाद जब भी मरीज किसी डॉक्टर के पास जाये तो उसे हर बार फाइल ले जाने की जरुरत नहीं है. डॉक्टर या अस्पताल मरीज का यूनिक हेल्थ आईडी देखकर उसका पूरा जानकारी ले सकेंगे और उसके आधार पर आगे का इलाज शुरू कर सकते है. यह कार्ड ये भी बताएगा कि उस व्यक्ति को किन-किन सरकारी योजनाओं का लाभ मिलता है. किसी व्यक्ति को आयुष्मान भारत के तहत इलाज की सुविधाओं का लाभ मिलता है या नहीं, इस यूनिक कार्ड के जरिये पता चल सकेगा.

यह भी पढ़े 


एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने